Category: Astrology

Change Language    

Findyourfate  .  03 Jun 2024  .  14 mins read   .   260

शनि ग्रह जिसे भारतीय ज्योतिष में शनि कहा जाता है, 29 जून, 2024 को मीन राशि में वक्री हो जाएगा। शनि लगभग साढ़े चार महीने तक वक्री रहेगा और 15 नवंबर, 2024 को मार्गी हो जाएगा, जो शुक्रवार होगा।



शनि एक महत्वपूर्ण ग्रह है जो ज्योतिषीय अध्ययन में एक प्रमुख भूमिका निभाता है, यह एक धीमी गति से चलने वाला ग्रह है जिसका हमारे जीवन पर बड़ा प्रभाव पड़ता है। इसलिए इसका वक्री चरण ज्योतिष में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। शनि अनुशासन, ईमानदारी, न्याय और कर्म से जुड़ा है। यह आपकी जन्म कुंडली के आधार पर अशुभ या शुभ परिणाम देता है। शनि को धीमी और स्थिर गति के लिए जाना जाता है और यह चीजों को लेकर जल्दबाजी नहीं करता है।

जब शनि वक्री होता है तो यह एक रोलर कोस्टर की सवारी होगी। यह हमें खुद में गहराई से उतरने और हमारे कुछ अनुत्तरित प्रश्नों के उत्तर खोजने के लिए प्रेरित करता है। जैसे ही शनि वक्री होता है, यह हमें चिंतित करता है और अनसुलझे मुद्दों को फिर से सामने लाता है। यदि आप समाधान खोजने के इच्छुक हैं, तो शनि का वक्री होना आपके लिए अच्छा समय होगा। चारों ओर ऊर्जा में बड़े बदलाव होंगे और शनि का वक्री होना आत्म-विकास और परिवर्तन का समय होगा।



शनि के वक्री होने पर हमें क्या करना चाहिए:

  • आत्म-चिंतन और गहन आत्मनिरीक्षण
  • जीवन में अपनी जिम्मेदारियों की समीक्षा करें।
  • अपने पिछले कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है
  • अनुशासन और आत्म-नियंत्रण का समय
  • अपने भविष्य की करियर योजनाओं का मूल्यांकन करें
  • जीवन में वांछित सुधार करें।
  • अपनी गलतियों की जिम्मेदारी लें
  • देरी और बाधाओं के साथ धैर्य रखना सीखें।
  • समस्याओं को सहजता से संभालें।
  • अपने निजी जीवन की नींव पर विचार करें।
  • परिवर्तन और विकास को अपनाएँ


शनि के वक्री होने का 12 राशियों पर 2024 का प्रभाव:

जून 2024 में शनि का वक्री होना जलीय राशि मीन में होगा। यह सभी 12 राशियों को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित करेगा। इसका प्रभाव वक्री होने के दौरान महसूस किया जाएगा। www.findyourfate.com के अनुसार शनि का वक्री होना राशियों पर कैसा प्रभाव डालेगा, यहाँ बताया गया है


मेष राशि

मेष राशि वालों के लिए, शनि इस जून में 12वें भाव में वक्री होगा। यह आपको बहुत अधिक काम करने के लिए अनुशासित बनाता है जो आपके दीर्घकालिक विकास को बढ़ावा देगा। आपके पास नए विचारों और समाधानों के साथ अपने भविष्य के बारे में अंतर्दृष्टि होगी। आपकी ऊर्जा के स्तर में कमी आने के कारण आप इस अवधि के लिए कम आवेगी होंगे। बस अपना धैर्य बनाए रखें और असंतोष को सहजता से स्वीकार करें।


वृष राशि

वृष राशि वालों के 11वें भाव में 2024 में वक्री शनि होगा। यह आपकी सामाजिक प्रतिष्ठा, आपकी छवि और आपकी मित्रता को प्रभावित करेगा। यह वक्री आपके नेटवर्किंग कौशल में सुधार करेगा। हालाँकि, आपको धीमा होना पड़ेगा और धीमी गति से आगे बढ़ना होगा। अभी के लिए कुछ जोखिम लेना बेहतर है।


मिथुन राशि

मिथुन राशि वालों के लिए, 10वां भाव वह है जहाँ 2024 में शनि वक्री होगा। यह आपको पेशे में सफलता प्राप्त करने में मदद करेगा और आपका पूरा ध्यान करियर के विकास पर होगा। इस वक्री मौसम में आप अधिक गंभीर हो जाते हैं और आपके कार्य अधिक गहन हो जाते हैं। आपके संचार में सरलता का स्पर्श होगा।


कर्क

उच्च शिक्षा पर शासन करने वाला 9वां घर इस शनि वक्री चरण की मेजबानी करेगा। यह अवधि आपको कुछ गहन शिक्षा में शामिल करेगी। कर्क राशि के जातक लंबी दूरी की यात्राओं की योजना बना रहे होंगे। आप चिंतित और चिंतित रहेंगे और वक्री अवधि के दौरान अपनी भावनाओं को नियंत्रित करना एक कठिन काम होगा। कर्क राशि के जातक अब अधिक आवेगी और आक्रामक भी हो सकते हैं।


सिंह

सिंह राशि वालों के लिए, शनि उनके 8वें घर में वक्री हो जाता है और इसका मतलब है कि आसपास के कुछ छिपे हुए सच सामने आएंगे। सिंह राशि के जातक जीवन में बड़े बदलावों से गुजरेंगे। कुछ सिंह राशि वालों को इस वक्री अवधि में भाग्य विरासत में मिलेगा। यह सिंह राशि वालों के लिए एक सकारात्मक समय है जब उनका आत्मविश्वास स्तर बढ़ता है। इन दिनों जातकों को जीवन को आसान बनाने के लिए कहा जाता है।


कन्या

इस जून, 2024 में कन्या राशि वालों के लिए शनि प्रेम और विवाह के 7वें घर में वक्री हो जाएगा। यह आपके प्रेम और वैवाहिक क्षेत्रों को सक्रिय करेगा। पेशेवर साझेदारी भी सक्रिय होगी। जातकों को किसी भी तरह की गलतफहमी से बचने के लिए कहा जाता है। इन वक्री दिनों में विवरणों को लेकर आपकी दीवानगी बढ़ सकती है। देरी और रुकावटें आपको परेशान कर सकती हैं, इसलिए शांत रहें।


तुला राशि

तुला राशि के जातकों के छठे भाव में शनि वक्री होगा, जो कि रोग, कर्ज और समस्याओं का भाव है। इससे आपके सामने आने वाली सभी चुनौतियों और समस्याओं का समाधान होगा। अभी सभी ऋण और खराब ऋण से बचें। आपका भावनात्मक संतुलन बिगड़ सकता है और जातकों को प्रेम और दोस्ती में कुछ कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।


वृश्चिक राशि

जून 2024 में वृश्चिक राशि के पांचवें भाव में वक्री शनि होगा। पांचवां भाव सुख, संतान, प्रेम और अटकलों का भाव है। जातकों को इस वक्री अवस्था के दौरान संतुलित जीवन जीने और किसी भी तरह के भोग-विलास से बचने के लिए कहा जाता है। बच्चों के साथ अच्छा समय बिताएं। आप अधिक आवेगी हो सकते हैं और जोखिम भरे कामों में कूद सकते हैं। वृश्चिक राशि वालों को अभी थोड़ा आत्म-नियंत्रण रखने की सलाह दी जाती है।


धनु राशि

2024 में ऋषियों के लिए यह चौथा भाव होगा, जिसमें वक्री शनि होगा। यह उनके घरेलू जीवन और संपत्ति के सौदों को प्रभावित करेगा। जातकों को अपने संपत्ति निवेश को बनाए रखने और जल्दबाजी न करने के लिए कहा जाता है। मातृ संबंधों को पोषित करने की आवश्यकता है। यह वक्री अवधि जातकों को जीवन में चुनौतियों का सामना करने का साहस देगी। वे अपनी चल रही परियोजनाओं को बेहतर बनाने में सक्षम होंगे।


मकर राशि

जून 2024 में मकर राशि के तीसरे भाव में शनि वक्री होगा। इससे आपके पड़ोसियों और भाई-बहनों के साथ संबंध मजबूत होंगे। आप जीवन में सही निर्णय लेने में सक्षम होंगे। चारों ओर उथल-पुथल का दौर हो सकता है। वक्री अवधि में देरी और रुकावटें आएंगी और संघर्ष आम बात होगी।


कुंभ राशि

कुंभ राशि के जातकों के दूसरे भाव में शनि वक्री होगा। यह आपके वित्त पर फिर से ध्यान केंद्रित करने का समय है। सुनिश्चित करें कि आपके पारिवारिक संबंध बरकरार हैं। अपने परिवार के साथ पर्याप्त समय बिताएं। इन दिनों आप कठिन परिस्थितियों के अनुकूल ढलने के लिए तैयार होंगे। शनि के वक्री होने से आपकी रचनात्मकता भी काफी बढ़ जाएगी।


मीन राशि

जून 2024 में शनि का वक्री चरण आपकी राशि में होगा और यह आपको अधिक आत्मनिरीक्षण करने वाला बनाता है। आप अपने और अपने विकास पर अधिक ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होंगे। आपके जीवन में व्यवधान पैदा करने वाली परेशानियाँ होंगी। निराशा आपको घेर रही है, शांत रहें और शनि के मार्गी होने का इंतज़ार करें। इन दिनों थोड़ा पीछे हटना बहुत मददगार साबित होता है।



संबंधित लिंक

• शनि वक्री होने पर क्या करें और क्या न करें


Article Comments:


Comments:

You must be logged in to leave a comment.
Comments






(special characters not allowed)



Recently added


. नेपच्यून का मीन राशि में वक्री होना - जुलाई 2024 - क्या यह चेतावनी है?

. अमात्यकारक - करियर का ग्रह

. एंजल नंबर कैलकुलेटर - अपने एंजल नंबर खोजें

. 2024 में पूर्णिमा: राशियों पर उनका प्रभाव

. शनि का मीन राशि में वक्री होना (29 जून - 15 नवंबर 2024)

Latest Articles


ज्योतिष में ग्रहों के अस्त होने पर क्या होता है?
जब कोई ग्रह सूर्य के चारों ओर अपनी परिक्रमा के दौरान सूर्य के बहुत करीब आ जाता है, तो सूर्य की प्रचंड गर्मी ग्रह को जला देगी। इसलिए यह अपनी शक्ति या ताकत खो देगा और इसकी पूरी ताकत नहीं होगी, इसे ग्रह अस्त करने के लिए कहा जाता है।...

ज्योतिष में बेशक शून्य चंद्रमा क्या है? चंद्र काल के शून्यकाल का उपयोग कैसे करें
इसका अर्थ है कि गोचर का चंद्रमा अन्य ग्रहों के साथ कोई दृष्टि नहीं बना रहा है। इसका तात्पर्य यह है कि चंद्रमा अन्य ग्रहों के प्रभाव से रहित है...

संख्या 7 . की दिव्यता और शक्ति
अंकशास्त्र संख्याओं और किसी के जीवन के बीच संबंधों का अध्ययन करता है। इसका विश्वास, कि आपका नाम आपके व्यक्तित्व के बारे में बहुत सारी जानकारी प्रकट कर सकता है। देवत्व विश्लेषण करता है कि आप उस तरह के व्यक्ति हैं जिसके आसपास लोग रहना पसंद करते हैं।...

गुरु पियार्ची पलंगल- बृहस्पति पारगमन- (2024-2025)
बृहस्पति एक ऐसा ग्रह है जो प्रत्येक राशि में लगभग एक वर्ष व्यतीत करता है। यह वह ग्रह है जो जीवन में हमारे विकास और समृद्धि पर शासन करता है।...

2024 मेष राशि पर ग्रहों का प्रभाव
जीवन का दाता सूर्य 2024 में 21 मार्च को आपकी राशि में प्रवेश करेगा और मेष राशि के मौसम की शुरुआत करते हुए अगले एक महीने तक यहीं रहेगा। आप इस पूरे वसंत ऋतु में सुर्खियों में रहेंगे और सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर रहेंगे।...